एक महीने बाद नेतन्याहू और बाइडेन ने की बातचीत, गाजा पर अमेरिका-इजरायल में बढ़ा है तनाव

0
15

गाजा में खाद्य संकट और क्षेत्र में इजरायल के सैन्य अभियान जारी रखने को लेकर अमेरिका के साथ बढ़े तनाव के बीच प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू और राष्ट्रपति जो बाइडेन ने करीब एक महीने बाद सोमवार को फोन पर बातचीत की.अमेरिकी राष्ट्रपति और इजरायली प्रधानमंत्री के बीच यह वार्ता तब हुई है, जब हाल ही में सीनेट सदस्य चक शूमर ने गाजा में युद्ध से निपटने के लिए नेतन्याहू की तीखी आलोचना की थी. उन्होंने इजरायली नागरिकों से नए चुनाव कराने का आह्वान किया था. चक शूमर की इस टिप्पणी पर वाशिंगटन में रिपब्लिकन नेताओं और इजरायली अधिकारियों ने तुरंत नाराजगी जाहिर की थी. 

इजरायली अधिकारियों ने जो बाइडेन के सहयोगी चक शूमर पर उसके आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने का आरोप लगाया था. नेतन्याहू और बाइडेन के बीच फोन कॉल पर हुई बातचीत के बारे में जानकारी देते हुए व्हाइट हाउस ने कहा, ‘राष्ट्रपति बाइडेन ने प्रधानमंत्री नेतन्याहू से कहा कि गाजा के राफा में इजरायली ग्राउंड ऑपरेशन एक बड़ी गलती होगी. नेतन्याहू ने राफा को लेकर इजरायल की योजनाओं और संभावित विकल्पों पर चर्चा करने के लिए वरिष्ठ इजरायली अधिकारियों के एक प्रतिनिधिमंडल को वाशिंगटन भेजने के बाइडेन के अनुरोध पर भी सहमति व्यक्त की’. 

‘हमास के खिलाफ लक्ष्यों को प्राप्त करने तक नहीं रुकेगा इजरायल’

हालांकि, बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा कि उन्होंने जो बाइडेन के साथ बातचीत में इस बात पर जोर दिया कि इजरायल 7 अक्टूबर के हमलों के लिए जिम्मेदार फिलिस्तीनी आतंकवादी समूह हमास के खिलाफ अपने सभी लक्ष्यों को प्राप्त करने तक नहीं रुकेगा. उनके इस बयान से दोनों देशों के रिश्तों में आए तनाव के बारे संकेत मिलते हैं. बेंजामिन नेतन्याहू ने X पर एक पोस्ट में लिखा, ‘आज शाम मैंने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन से बात की. हमने युद्ध के नवीनतम घटनाक्रमों पर चर्चा की, जिसमें युद्ध के सभी लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए इजरायल की प्रतिबद्धता भी शामिल है’. 

नेतन्याहू ने युद्ध के लक्ष्यों के बारे में लिखा, ‘हमास को खत्म करना, हमारे सभी बंधकों को मुक्त करना और यह सुनिश्चित करना कि गाजा फिर कभी इजरायल के लिए खतरा न बने- साथ ही आवश्यक मानवीय सहायता प्रदान करना जो इन लक्ष्यों को प्राप्त करने में सहायता करेगी’. बता दें कि दोनों नेताओं ने आखिरी बार 15 फरवरी को बात की थी. तब जो बाइडेन ने गाजा में फिलिस्तीनी नागरिकों की मौतों और क्षेत्र में गंभीर मानवीय संकट पैदा करने के लिए इजरायल की आलोचना की थी. बता दें कि इजरायल और हमास के बीच बीते पांच महीने से अधिक समय से गाजा में युद्ध जारी है. इसमें 30 हजार से अधिक लोग मारे जा चुके हैं और लाखों लोग विस्थापित हुए हैं.

‘हमने तो 9/11 के बाद US में नए चुनाव का आह्वान नहीं किया था’

जो बाइडेन प्रशासन को आशंका है कि इजरायल गाजा के दक्षिणी हिस्से राफा में ग्राउंड ऑपरेशन शुरू कर सकता है, क्योंकि वह 7 अक्टूबर, 2023 के घातक हमले के बाद हमास को जड़ से खत्म करना चाहता है. बाइडेन प्रशासन ने चेतावनी दी है कि अमेरिका निर्दोष फिलिस्तीनी नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए इजरायल द्वारा एक विश्वसनीय योजना पेश किए बिना इस तरह के ऑपरेशन का समर्थन नहीं करेगा. नेतन्याहू ने रविवार को चक शूमर के इजरायली नागरिकों से नए चुनाव कराने के आह्वान की आलोचना करते हुए इसे ‘पूरी तरह से अनुचित’ बताया था. उन्होंने कहा था, ’11 सितंबर, 2001 के हमलों के बाद इजरायल ने अमेरिका में नए चुनाव का आह्वान नहीं किया था. हम कोई बनाना रिपब्लिक नहीं हैं. इजरायल के लोग तय करेंगे कि कब चुनाव होगा और वे किसे चुनेंगे. यह कोई ऐसी चीज नहीं है जिसे हम पर थोपा जाएगा’.

#एक #महन #बद #नतनयह #और #बइडन #न #क #बतचत #गज #पर #अमरकइजरयल #म #बढ #ह #तनव