तीन राज्यों में केस की रिपोर्ट और बेल की प्रोसेस… संजय सिंह की तिहाड़ जेल से रिहाई में हो सकती है देरी

0
11

आम आदमी पार्टी के नेता और राज्यसभा सांसद संजय सिंह की तिहाड़ जेल से रिहाई की प्रोसेस शुरू हो गई है. सुप्रीम कोर्ट से बेल ऑर्डर ट्रायल कोर्ट (राउज एवेन्यू कोर्ट) पहुंच गया है. वहां जमानत की शर्तों का लेकर सुनवाई शुरू हो गई है. संजय सिंह की बेल पर कोर्ट ने शर्तें तय कर दी हैं. कोर्ट ने कहा कि संजय सिंह सबूतों के साथ छेड़छाड़ नहीं करेंगे. वे दिल्ली-एनसीआर छोड़कर नहीं जाएंगे. अगर दिल्ली-एनसीआर छोड़कर जाना है तो इसकी जानकारी देनी होगी. उन्हें अपना पासपोर्ट जमा करना होगा. संजय सिंह की लोकेशन पर नजर रखी जाएगी. जांच में सहयोग करना होगा. केस को लेकर कोई टिप्पणी या बयान नहीं देंगे.

माना जा रहा है कि संजय सिंह की जल्द रिहाई में पेंच फंस सकता है. इसके दो बड़े कारण सामने आ रहे हैं. संजय पर तीन राज्यों में केस दर्ज हैं. जेल प्रशासन इनकी स्टेटस रिपोर्ट ले रहा है. उसके आधार पर आगे रिपोर्ट भेजी जाएगी. दूसरा- तिहाड़ जेल अधिकारियों को अभी तक संजय का जमानत आदेश नहीं मिला है.

जेल विभाग का कहना है कि जमानत आदेश मिलने के बाद उसका अध्ययन किया जाएगा और रिहाई प्रक्रिया आगे बढ़ाई जाएगी. उसके बाद ट्रायल कोर्ट जमानत की शर्तों के साथ आदेश तैयार करेगा.

तिहाड़ जेल से जुड़े सूत्रों के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट से संजय सिंह की रिहाई का आदेश अभी तिहाड़ जेल नहीं पहुंचा है. जब बेल ऑर्डर तिहाड़ जेल पहुंचेगा, तभी रिलीज ऑर्डर की प्रोसेस शुरू की जाएगी. सूत्रों के मुताबिक, संजय सिंह पर पंजाब, गुजरात और उत्तर प्रदेश में केस दर्ज हैं. जेल प्रशासन इन केस के स्टेटस रिपोर्ट भी ले रहा है कि कहीं इन तीन राज्यों में दर्ज हुए केस में संजय को गिरफ्तार तो नहीं किया गया है. अगर गिरफ्तार किया गया है तो उसमें कोर्ट से जमानत मिली है या नहीं. जमानत की शर्तों के साथ कोर्ट में आदेश तैयार किया जाएगा, जिसके बाद आदेश को तिहाड़ जेल भेजा जाएगा. बेल ऑर्डर पहुंचने के बाद करीब 2 घंटे का वक्त रिलीज ऑर्डर तैयार करने में लगेगा.

‘सीधे अस्पताल से छुट्टी मिल सकती है’

सूत्रों का कहना है कि संजय सिंह को सीधे आईएलबीएस अस्पताल से छुट्टी मिल सकती है. रिहाई आदेश आते ही तिहाड़ अधिकारी पुलिस को रिपोर्ट सौंप देंगे और संजय सिंह को रिहा कर दिया जाएगा. जेल की सुविधाओं के अनुसार, प्रत्येक व्यक्ति को अपना सामान रखने के लिए एक अलमारी दी जाती है. यदि संजय सिंह के पास कोई सामान है तो वे बाद में उसे ले सकते हैं, इसका विवेकाधिकार कैदी के पास रहता है.

‘रिहाई के बाद मंदिर में दर्शन करने जाएंगे संजय’

वहीं, AAP सांसद संजय सिंह की पत्नी अनीता सिंह ने बताया, कल हमने संजय सिंह को अस्पताल में रूटीन चेकअप के लिए भर्ती कराया था, जहां हमें पता चला कि उन्हें बेल मिल गई है. आज वे करीब 12 बजे तक अस्पताल से डिस्चार्ज होंगे, उसके बाद वे तिहाड़ जाएंगे. वहां से फिर वे रिलीज होंगे. दोपहर करीब 2-3 बजे तक रिहा कर दिया जाएगा. उसके बाद हम मंदिर दर्शन के लिए जाएंगे और भगवान का शुक्रिया करेंगे. 

‘तीनों भाइयों की रिहाई तक जश्न नहीं’

अनीता सिंह ने आगे कहा, मैं जमानत देने के लिए न्यायपालिका को भी धन्यवाद देती हूं और उम्मीद करती हूं कि मेरे बड़े भाई अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसौदिया और सत्येन्द्र जैन को भी जल्द ही जमानत मिल जाएगी. जब तक मेरे तीनों भाई बाहर नहीं आते, तब तक हमारे घर में कोई जश्न नहीं मनाया जाएगा. बुधवार सुबह मां और बेटे दिल्ली के आईएलबीएस अस्पताल में भर्ती संजय सिंह से मिलने पहुंचे.

‘ईडी ने कोर्ट के आगे सरेंडर कर दिया’

दिल्ली की AAP सरकार में मंत्री सौरभ भारद्वाज ने कहा, लंच से पहले सुप्रीट कोर्ट की 3 जजों की बेंच ने ED को चेतावनी दी और कहा कि अगर इस जमानत का विरोध करोगे तो हम इसमें फैसला लिखेंगे. फैक्ट्स आपके विरोध में हैं. संजय सिंह के खिलाफ आपने कोई सबूत नहीं दिया है. ED अगर जमानत का विरोध करती और कोर्ट जमानत देती तो ये पूरा केस हवा में उड़ जाता और पूरा केस खत्म हो जाता. इसलिए अपनी इज्जत बचाने के लिए और केस को चलाए रखने के लिए ED ने सरेंडर कर दिया.

‘छह महीने पहले अरेस्ट हुए थे संजय’

ईडी ने संजय सिंह 4 अक्टूबर 2023 को गिरफ्तार किया था. ED की चार्जशीट में संजय सिंह पर 82 लाख रुपए का चंदा लेने का जिक्र है. इसको लेकर ही 4 अक्टूबर को ED उनके घर पहुंची थी और उनसे 10 घंटे की लंबी पूछताछ के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया था. लेकिन जैसे ही संजय सिंह को सुप्रीम कोर्ट ने जमानत दी तो AAP नेताओं ने बीजेपी को घेरना शुरू कर दिया है.

संजय की जमानत शर्तों पर राउज एवेन्यू कोर्ट में चल रही है सुनवाई

राउज एवेन्यू कोर्ट में संजय सिंह के वकील ने कहा, हमें संजय के लिए जमानत पत्र भरना होगा. इस पर कोर्ट ने पूछा- आपके पास जमानत का आदेश है? वकील ने हामी भरी. संजय सिंह की टीम ने ट्रायल कोर्ट को उनका जमानत आदेश दिया. संजय के वकील का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट ने सिर्फ एक ही शर्त लगाई है. सुप्रीम कोर्ट ने संजय से कहा है कि वा इस मामले में अपनी भूमिका के बारे में बात ना करें.

वकील का कहना था कि बाकी इस अदालत को तय करना है. वो संसद सदस्य हैं. संजय सिंह पत्नी जमानतदार के तौर पर खड़ी हैं. इस पर कोर्ट ने कहा, मुझे सुनने दीजिए कि ईडी को क्या कहना है. संजय सिंह के वकील ने कहा, मैंने खुद कहा कि मैं संसद सदस्य हूं. कोई जोखिम नहीं है. हिरासत के दौरान उन्हें संसद सदस्य के रूप में फिर से नियुक्त किया गया है और इस अदालत ने इसकी अनुमति दी थी.

ईडी के लिए वकील जोहेब हुसैन ने कहा, सुप्रीम कोर्ट द्वारा रखी गई शर्तों को भी इस मामले में एक शर्त के रूप में रखा जाना चाहिए. कोर्ट का कहना है कि 4 लाख की जमानत राशि दी जा सकती है (मौखिक टिप्पणी अभी तक आदेश में नहीं). इस पर संजय के वकील ने कहा, मेरे पास 2 लाख की एफडीआर है. पहले के ऑर्डर के अनुसार यह 2 लाख थी. यह अदालत का विवेक है लेकिन पहले आरोपी ने 2 लाख दिए हैं.

#तन #रजय #म #कस #क #रपरट #और #बल #क #परसस #सजय #सह #क #तहड #जल #स #रहई #म #ह #सकत #ह #दर