बाबुल की दुआएं लेती जा…विदाई में धीरेंद्र शास्त्री से लिपटकर रोईं बहनें, बागेश्वर धाम में 156 कन्याओं के विवाह; हेलीकॉप्टर से बरसाए फूल

0
20

MP News: छतरपुर जिले के बागेश्वर धाम में शुक्रवार को गरीब परिवार की 156 कन्याओं का विवाह संपन्न हुआ. पीठाधीश्वर पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने यह आयोजन करवाया. विदाई की बेला आई तो नवविवाहित कन्याएं विवाह समारोह के मेजबान धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री से लिपटकर रोने लगीं. बड़े भाई की तरह शास्त्री ने भी दुल्हन बनी कन्याओं को आशीर्वाद दिया. 

इस विशाल आयोजन की शुरुआत दूल्हा और दुल्हन के स्वागत से हुई. स्वागत खुद बागेश्वर धाम के महाराज धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने ढोल-नगाड़ों के साथ किया और जोड़ों का मंच तक लेकर आए. मंच पर एक-दूसरे को जयमाला पहनाने की रस्म अदा की गई. 

मंच पर मौजूद अतिथियों ने वर-वधू को आशीर्वाद दिया और उसके बाद मंडप ने नीचे होने वाली रस्में हुईं तो दूल्हा-दुल्हन की खुशी का ठिकाना नहीं रहा. इन सभी जोड़ों ने जयमाला कार्यक्रम के साथ ही मंडप में सात फेरे लेते हुए एक दूसरे को अपनाया. 

बता दें बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री की ओर से इस वर्ष पंचम विवाह महोत्सव कराया गया. इस वर्ष सभी जोड़ों को 157 प्रकार की घरेलू सामग्री भेंट स्वरूप दी गई. इसमें मोटरसाइकिल से लेकर रामायण- गीता भी शामिल हैं. aajtak से बात करते हुए दूल्हा-दुल्हनों ने बागेश्वर महाराज की जमकर तारीफ करते हुए उन्हें अपना गुरु, भाई और पिता समान बताया.  

उधर, इस पूरे आयोजन को लेकर बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ने aajtak से बात करते हुए कार्यक्रम के बारे में विस्तृत जानकारी दी. कहा कि इस साल यानी 2024 के विवाह महोत्सव का पूरा आयोजन मंदिर में चढ़ने वाली चढ़ोत्तरी से संपन्न हुआ है. 

धीरेंद्र शास्त्री बोले कि अगले वर्ष यानी 2025 में मोटरसाइकल देने की बजाए जोड़ों की संख्या बढ़ाई जाएगी, क्योकि जितना खर्च सामग्री में आता है, उतने में कई निर्धन कन्याओं का विवाह संपन्न हो सकता है, इसलिए अगले वर्ष 251 निर्धन कन्याओं का विवाह कराया जाएगा.  

विवाह में जोड़ों को भेंट की गई सामग्री.

 
मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री मोहन यादव इस विशाल सामूहिक कन्या विवाह महोत्सव में शामिल हुए और नव दंपत्तियों को आशीर्वाद दिया. आयोजन में अतिथि के रूप में पहुंचे CM मोहन यादव ने आयोजन की सराहना करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश सरकार भी शदियों के आयोजन कराती है. सरकारी की तरफ से आयोजित कार्यक्रमों में बगैर मुहूर्त के विवाह होते हैं और अगर बागेश्वर महाराज सरकार के साथ विवाह आयोजन करना चाहें तो सरकार मदद के लिए सदैव तैयार है. 

CM ने आगे कहा है कि कन्यादान सबसे बड़ा दान है. बागेश्वर धाम में आगामी शुभ मुहूर्त में बड़ी संख्या में निर्धन और जरूरतमंद परिवार की बेटियों के विवाह संपन्न करवाए जाएंगे. मुख्यमंत्री  ने कहा कि क्षेत्र के सभी धार्मिक स्थलों का विकास किया जाएगा और पुरातन समय के खजुराहो के प्रत्येक मंदिर में पूजन का प्रबंधन सुनिश्चित किया जाएगा. हम केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को पत्र लिख रहे हैं कि खजुराहो के सारे मंदिरों में पूजा करा सकें तो अच्छा रहेगा. पुरातत्व की दृष्टि से पूजा रोकी गई थी, लेकिन इसका रास्ता निकालना राज्य सरकार की मंशा है. इसके साथ ही जन भावनाओं का आग्रह है और बागेश्वर महाराज ने भी आग्रह किया है. 

डॉ. यादव ने कहा कि सामूहिक विवाह के गौरवशाली आयोजन में शामिल होने का अवसर मिलने से जीवन धन्य हो गया. बागेश्वर धाम में सनातन संस्कृति की झलक देखने को मिलती है.

खजुराहो  सांसद और बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने सामूहिक विवाह कार्यक्रम को ऐतिहासिक बताया. उन्होंने कहा कि आइकॉनिक सिटी खजुराहो के साथ बागेश्वर धाम की भी देश में अलग पहचान स्थापित हुई है. देशभर के साधु-संतों के अलावा फेमस सिंगर सोनू निगम, रेसलर ‘द खली’ उर्फ  दलीप सिंह राणा के साथ ही अन्य हस्तियां बागेश्वर धाम के मंच पर मौजूद रहीं. 

हरियाणा से आए कुश्ती पहलवान दलीप सिंह राणा उर्फ खली ने एक स्थल पर गरीब कन्याओं के विवाह आयोजन को अनूठा और समाज के लिए अनुकरणीय बताया.

इसके अलावा, कार्यक्रम में प्रदेश उपमुख्यमंत्री  राजेन्द्र शुक्ल, कैबिनेट मंत्री विजय शाह,  राकेश सिंह,  गोविंद सिंह राजपूत, राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार  धर्मेन्द्र लोधी और राज्यमंत्री स्वतंत्र प्रभार लखन पटेल मौजूद थे. 

#बबल #क #दआए #लत #जवदई #म #धरदर #शसतर #स #लपटकर #रई #बहन #बगशवर #धम #म #कनयओ #क #ववह #हलकपटर #स #बरसए #फल