FeaturedGlobal

‘बेटी अपर बर्थ से नीचे गिरी, अचानक मची चीख-पुकार…’, चश्मदीद ने बताया आंध्र प्रदेश ट्रेन हादसे के वक्त कितना भयानक था मंजर

आंध्र प्रदेश में रविवार रात को हुए भीषण रेल हादसे में 14 लोगों की मौत हो गई थी. जबकि, 54 से ज्यादा लोग इसमें घायल हुए थे. दरअसल, विजयनगरम जिले में हावड़ा-चेन्नई लाइन पर एक ट्रेन के सिग्नल को पार कर दूसरी ट्रेन से टकरा जाने के बाद कई डिब्बे डीरेल हो गए. हादसे में बाल-बाल बचे यात्री ने बताया कि उस वक्त का मंजर कैसा था.

बता दें, यह रेल हादसा रविवार शाम करीब 7 बजे हुआ, जहां 08532 विशाखापत्तनम-पलासा पैसेंजर ट्रेन और 08504 विशाखापत्तनम-रायगड़ा पैसेंजर स्पेशल के बीच भिडंत हो गई. रेलवे ने इस पर कहा कि विशाखापत्तनम-रायगढ़ा पैसेंजर स्पेशल ट्रेन द्वारा सिग्नल की ‘ओवरशूटिंग’ की गई. जिस कारण दोनों ट्रेनें आपस में टकरा गईं.

एक न्यूज एजेंसी के मुताबिक, ओडिशा के रहने वाले दिलीप कुमार पात्रो नामक यात्री ने बताया कि  वो अपनी पत्नी, 6 साल की बेटी और तीन अन्य लोगों के साथ ट्रेन से घर वापस लौट रहे थे. रविवार शाम 7 बजकर 10 मिनट पर उन्हें एक झटका महसूस हुआ. तभी कुछ ही सेकंड्स के अंदर जोरदार झटका लगा और पूरी ट्रेन में चीख-पुकार मच गई. हर कोई ‘बचाओ-बचाओ’ चिल्लाने लगा. जैसे ही यह हादसा हुआ, उनकी 6 साल की बेटी अपर बर्थ में थी. वो झटके से नीचे गिर गई. गनीमत ये रही कि उसे ज्यादा चोट नहीं आई. हमें नहीं पता ये सब कैसे हुआ. बस इतना ही पता चला कि ट्रेन डिरेल होकर किसी दूसरी रेलगाड़ी से टकरा गई.

पात्रो ने बताया कि हादसे के तुरंत बाद ट्रेन में भगदड़ मच गई. सभी लोग बाहर की ओर भागने लगे. मैंने देखा कि हमारे पास ही कोच के नीचे की तरफ एक डेड बॉडी पड़ी हुई है. यह देखते ही मेरी हालत खराब हो गई. लेकिन मैं जैसे-तैसे परिवार के साथ कोच से बाहर निकला. मेरी बच्ची रो रही थी. पत्नी घबराई हुई थी. वो तो भी भी जिंदगी में इस हादसे को नहीं भूल पाएगी.

हमें जब पता चला कि इस हादसे में 14 लोगों की मौत हुई है और 54 से ज्यादा लोग घायल हैं तो बहुत दुख हुआ. न जाने कितने ही परिवार उजड़ गए. हम बस भगवान का शुक्र कर रहे थे कि हमारा परिवार बाल-बाल बच गया. मैं खुद इस हादसे को कभी नहीं भूल पाऊंगा. वो लोगों की चीख-पुकार और भगदड़ को याद करके मैं डर सा जा रहा हूं.

मृतकों के परिजनों को मिलेगा मुआवजा

बता दें, इस हादसे में जान गंवाने वाले आंध्र प्रदेश के मृतकों के परिजनों को 10 लाख रुपये और अन्य राज्यों के मृतकों के परिजनों को 2 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा. वहीं, मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को गंभीर रूप से घायलों को 50 हजार रुपये की सहायता प्रदान करने का आदेश दिया है. 

PMNRF फंड से भी मिलेगी मदद

इसके अलावा प्रधानमंत्री कार्यालय ने मृतकों के परिजनों को PMNRF के फंड से 2 लाख रुपये की आर्थिक मदद की घोषणा की है. वहीं, घायलों को 50,000 रुपये दिए जाएंगे.

#बट #अपर #बरथ #स #नच #गर #अचनक #मच #चखपकर #चशमदद #न #बतय #आधर #परदश #टरन #हदस #क #वकत #कतन #भयनक #थ #मजर