FeaturedGlobalMiddle East News

Israel–Hamas War: आतंक के रावण का कब होगा अंत? इजरायल-हमास की जंग के बीच इन 6 खुलासों ने बढ़ाई चिंता

Israel–Hamas War: बुराई पर अच्छाई की जीत के पर्व विजयदशमी पर मंगलवार को पूरे भारत में रावण दहन हुआ. रावण दहन के साथ हमारी मान्यता के साथ बुराई हारती है. लेकिन अब सवाल है कि इजरायल-हमास के युद्ध में क्या आतंक का रावण पूरी तरह खत्म होगा? हमास के आतंक पर विजय का दशहरा कब मनेगा? जहां करीब सात हजार लोगों की जान इजरायल और गाजा में जा चुकी है. यहां भी आतंक के रावण की नाभि में तीर लगना जरूरी है. कारण, 6 खुलासों ने दुनियाभर की चिंता बढ़ा दी है.

दरअसल, विजयदशमी मनाते भारत से 4550 किमी दूर का सवाल जरूरी है. ये है कि इजरायल में आतंक के रावण का दहन कब होगा? उस रावण का अंत कब होगा, जिसे मारने के लिए 18 दिन से बमबारी इजरायल कर रहा है. अब तक गाजा में 5182 लोगों की जान गई है तो वहीं इजरायल में 1400 से ज्यादा लोगों की मौत हुई. गाजा का दावा है कि 24 घंटे में 704 फिलिस्तीनी मारे गए हैं. 

हमास के कब्जे में अब भी 225 से ज्यादा लोग

उधर, हमास ने अब तक कुल 4 बंधकों को रिहा किया है. 225 से ज्यादा बंधक अभी गाजा में हमास के कब्जे में हैं, जिन्हें छुड़ाने के लिए गाजा के बॉर्डर के पास खड़े इजरायल की सेना के टैंक हमास के ठिकानों पर वार कर रहे हैं. साथ ही इजरायल की सेना एकदम गाजा बॉर्डर के पास वो तैयारी करती दिखती है, जो गाजा में घुसने के बाद इन सैनिकों को गाजा में छिपे दहशतगर्दों को मारकर बंधकों को छुड़ाने में काम आनी है. सेना के इसी एक्शन के साथ आतंक का रावण खत्म हो सकता है. और इजरायल से लेकर गाजा तक जो लाखों निर्दोष नागरिक शांति अपने जीवन में चाहते हैं, वो उन्हें मिल सकती है.  

गाजा के बाहर लगा शवों का ढेर

बता दें कि इस वक्त गाजा की हालत ये है कि अस्पताल के बाहर शव बढ़ते जा रहे हैं. यहां शवों में अपनों को खोजना भी कठिन हो रहा है. यहां पता ही नहीं होता कि कब धमाका या धमाके की आवाज आए. ऐसे वक्त में गाजा में हमास के आतंक का रावण का अंत कब और कैसे होगा, जो अब इजरायल की फोर्स के छापामार युद्ध से बचने के लिए मोर्टार दागता है. मोर्टार बम दागकर गाजा के टैंक और सैनिकों को गाजा में घुसने से रोकने की कोशिश में हमास के आतंकी छिपे हैं, जिसका वीडियो खुद प्रोपेगेंडा के तौर पर प्रचारित करते हैं. 

हमास के आतंक के रावणों से जुड़े ये 6 बड़े खुलासा हुए- 

पहला खुलासा- पुरुषों को मारने, बुजुर्ग महिला-बच्चों को अगवा करने का ऑर्डर आतंकियों को मिला था. 

दूसरा खुलासा- युवाओं को मारने का आदेश आतंकी कमांडर ने इजरायल अटैक वाले दहशतगर्दों को दिया था.

तीसरा खुलासा- ज्यादा से ज्यादा लोगों को अगवा करने का ऑर्डर लेकर आए थे दहशतगर्द.

चौथा खुलासा- ‘एक बंधक लाओ, 10 हजार डॉलर पाओ’ का आतंकी ऑफर दिया गया था.

पांचवां खुलासा- एक इजरायली या विदेशी नागरिक को बंधक बनाकर गाजा लाने पर एक घर का ऑफर आतंकियों को दिया गया था.

छठा खुलासा- किब्तुज में ज्यादा से ज्यादा लोगों को मारकर कब्जा करने का ऑर्डर आतंकी लाए थे. 

हमास के आकाओं ने दिए थे क्रूरता करने के ऑर्डर

हमास के लड़ाकों को इनके आकाओं ने ऑर्डर दिया था. आतंक का ऑर्डर पूरा करने के लिए इन्होंने दहशत फैलाकर क्रूरता की हदें पार कीं. अब तक 18 दिन में 6 हजार से कहीं ज्यादा लोगों की मौत की वजह बनने वाले ये हमास के वो ही दहशहतगर्द हैं, जिनका आतंक का रावण यानी हमास जैसे आतंकी संगठनों का समूल नाश जरूरी है. 

इजरायल ने जारी किए थे दहशतगर्दों के वीडियो

इजरायली सेना ने पकड़े गए हमास के लड़ाकों के वीडियो जारी किए हैं. इनमें वह बता रहे हैं कि उन्हें क्या आदेश दिए गए थे. हमास के डिपार्टमेंट कमांडर जिहाद फौजी मोहम्मद ने बताया कि उनका मिशन सूफा सैन्य चौकी पर कब्जा करना था. दो दिन तक किबुत्ज पर कब्जा करके वही रुक जाना था. नागरिकों को मारने को लेकर स्पेशल ऑर्डर मिले थे. पुरुषों को मारना था, महिलाओं-बच्चों को बंधक बनाना था. युवा पुरुषों को मारने का स्पेशल ऑर्डर दिया गया था. युवा चाहे आर्मी का हो या आम नागरिक, उसे मारना था. 

वहीं अल कसम के आतंकी याह्या मजाद सुब्री ने बताया कि उनका किब्तुज बीरी में घुसकर हमला करने का प्लान था. वहीं आतंकी अहमद मजाद अहमद ने बताया कि लोगों को बंधक बनाकर लाने का काम दिया गया था. किब्तुज से लोगों को बंधक बनाकर लाने का ऑर्डर था. मोहम्मद नाहद नाम के आतंकी कमांडर ने दिया था आदेश. हमको किब्तुज को लेकर मिशन दिया गया था.

अल कसम के एक और आतंकी यासिर जैद अबु राजिन ने बताया कि सूफा मिलिट्री पोस्ट पर कब्जा करने का मिशन था. कब्जा करके सूफा मिलिट्री पोस्ट पर रुकना था.

वहीं मोहम्मद अलमाजदलाई नाम के दहशतगर्द ने बताया कि घर में सफाया करो और बंधक बनाओ. गाजा में जो बंधक बनाकर लाएगा, इनाम पाएगा. बंधक बनाकर लाने पर 10 हजार डॉलर मिलना था. एक बंधक लाने पर एक फ्लैट मिलना था. अल कसम ब्रिगेड में बंधक पर मिलता है ईनाम. कंपनी कमांडर ने ईनाम की बात कही थी. हमले का मकसद ही बंधक बनाकर लाना था. किब्तुज को खाली कराके कब्जा करना था. किबुत्ज के लोगों को मारकर खाली कराना था.

#IsraelHamas #War #आतक #क #रवण #क #कब #हग #अत #इजरयलहमस #क #जग #क #बच #इन #खलस #न #बढई #चत